राजस्थान संकट – सोनिया गांधी के घर बैठक ख़त्म ; कमलनाथ बोले ‘अध्यक्ष पद में दिलचस्पी नहीं ‘

राजस्थान संकट को लेकर सोनिया गांधी के निवास 10 जनपथ पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से चल रही बैठक ख़त्म हो गई है. इस बैठक में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल थे.

बैठक ख़त्म होने के बाद मीडिया से बात करते हुए अजय माकन ने कहा कि उन्होंने राजस्थान में जो चल रहा है उसके बारे में विस्तार से सोनिया गांधी के साथ चर्चा की.

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उन्हें राजस्थान के पूरे घटनाक्रम पर एक लिखित रिपोर्ट मांगी है. अजय माकन ने कहा कि लिखित रिपोर्ट हम आज रात या कल सुबह तक सोनिया गांधी को दे देंगे.

कल रविवार को जयपुर में कांग्रेस विधायक दल की बैठक रखी गई थी जो हो नहीं पाई.

अजय माकन ने कहा, “हमारे पास में कुछ मंत्री, विधायकों के नुमाइंदे बनकर आए थे. उन्होंने उस समय तीन शर्ते रखी थीं. एक शर्त थी कि कोई भी रिजॉल्यूशन पर फैसला 19 अक्टूबर के बाद होना चाहिए. हमारा कहना था कि ये कैसे संभव है कि जो व्यक्ति रिजॉल्यूशन मूव ला रहे हैं कि सारे अधिकार कांग्रेस अध्यक्ष को दिए जाएं. जो व्यक्ति कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ना चाहता है वो खुद फैसला करेंगे तो ये कॉनफ्लिक्ट ऑफ इंटरेस्ट हो जाएगा.”

“दूसरी ये कहा कि हर विधायक से अलग अलग ना मिलकर समूह में मिलिए. हमारा कहना था कि कभी भी कांग्रेस में ऐसा नहीं होता है. विधायक दल की बैठक में विधायकों से अलग अलग बात की जाती है. सब लोग फ्री एंड फेयर तरीके से बात कर सकें.”

तीसरा शर्त थी कि जो 102 विधायक अशोक गहलोत के खेमे में हैं उन्हीं में से मुख्यमंत्री बनाया जाना चाहिए.

राजस्थान में राजनीतिक उठापठक के बीच मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ दिल्ली पहुंचे. उन्होंने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मुलाकात के बाद कमलनाथ ने ने साफ़ किया कि उन्हें कांग्रेस के अध्यक्ष पद में कोई दिलचस्पी नहीं है. उन्होंने कहा कि वे सोनिया गांधी को नवरात्रि की शुभकामनाएं देने आए थे.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कांग्रेस अध्यक्ष की रेस में शामिल होने के बाद उनकी जगह कौन लेगा इसे लेकर रविवार को जयपुर में बैठक होनी थी. विधायकों से मिलने के लिए दिल्ली से अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे पहुंचे थे, लेकिन गहलोत गुट के काफी विधायक राजस्थान के संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल के घर जुटे रहे.

आज शाम मीडिया से बात करते हुए शांति धारीवाल ने अजय माकन पर निशाना साधते हुए कहा कि वे सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाने का मिशन लेकर जयपुर आए थे.

शांति धारीवाल की मांग है कि गहलोत गुट के 102 विधायकों में से ही किसी को मुख्यमंत्री बनाया जाए.

वहीं शांति धारीवाल के यहां विधायकों की मीटिंग पर दिल्ली पहुंचे अजय माकन ने अनुशासनहीनता बताया है.

Leave a Reply