रक्षाबंधन: माथे पर तिलक लगाने के ये हैं सेहत से जुड़े 7 जबरदस्त फायदे

भाई-बहन के प्यार का त्योहार रक्षाबंधन दो दिन बाद 15 अगस्त को मनाया जाएगा. इस मौके पर बहनें अपने भाई की लंबी उम्र के लिए उसके माथे पर तिलक लगाती हैं. पर क्या तिलक महज दिखावे के मकसद से किया जाता है या फिर तिलक धारण का कुछ वैज्ञानिक आधार भी है?

आम तौर पर लोग माथे पर चंदन, कुमकुम, मिट्टी, हल्दी, भस्म आदि का तिलक लगाते हैं. वहीं ऐसे लोग जो माथे पर बिना तिलक लगाए इसका लाभ लेना चाहते हैं तो शास्त्रों में उनके लिए भी कई उपाय बताए गए हैं. कहा गया है कि ऐसे लोगों को अपने ललाट पर जल से तिलक लगाना चाहिए.

आइए जानते हैं माथे पर तिलक लगाने के क्या हैं सेहत से जुड़े वो 7 जबरदस्त फायदे.   

1. तिलक करने से व्यक्त‍ित्व प्रभावशाली हो जाता है. दरअसल, तिलक लगाने का मनोवैज्ञानिक असर होता है, क्योंकि इससे व्यक्त‍ि के आत्मविश्वास और आत्मबल में भरपूर इजाफा होता है.

2. ललाट पर नियमित रूप से तिलक लगाने से मस्तक में तरावट आती है. लोग शांति व सुकून अनुभव करते हैं. यह कई तरह की मानसिक बीमारियों से बचाता है.

3. दिमाग में सेराटोनिन और बीटा एंडोर्फिन का स्राव संतुलित तरीके से होता है, जिससे उदासी दूर होती है और मन में उत्साह जागता है. यह उत्साह लोगों को अच्छे कामों में लगाता है.

4. इससे सिरदर्द की समस्या में कमी आती है.

5. हल्दी से युक्त तिलक लगाने से त्वचा शुद्ध होती है. हल्दी में एंटी बैक्ट्र‍ियल तत्व होते हैं, जो रोगों से मुक्त करता है.

6. धार्मिक मान्यता के अनुसार, चंदन का तिलक लगाने से मनुष्य के पापों का नाश होता है. लोग कई तरह के संकट से बच जाते हैं. ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, तिलक लगाने से ग्रहों की शांति होती है.

7. माना जाता है कि चंदन का तिलक लगाने वाले का घर अन्न-धन से भरा रहता है और सौभाग्य में बढ़ोतरी होती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *