एक्शन मोड में सोनिया, ‘एक व्यक्ति-एक पद’ पर ले सकती हैं फैसला

कांग्रेस संगठन में ‘एक व्यक्ति-एक पद’ के सिद्धांत को लागू करने के हक में अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी रणनीतिकारों से चर्चा कर रहीं हैं. इसको लेकर सोनिया गांधी जल्द फैसला ले सकती हैं. फिलहाल पार्टी में 6 बड़े नेता दो पदों पर काबिज हैं. सूत्रों का कहना है कि सोनिया इन नेताओं से सलाह-मशविरा करने के बाद फैसला लेंगी.

खुद सोनिया अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष और संसद में पार्टी के संसदीय दल की नेता हैं, लेकिन सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर वो संगठन की मुखिया हैं और संसदीय दल के नेता के तौर पर संसद में पार्टी की मुखिया. ऐसे में इसे एक व्यक्ति-एक पद के दायरे में नहीं लाया जा सकता क्योंकि, वो पार्टी में बतौर मुखिया काम कर रही हैं.

ये हैं वो बड़े नेता

-गुलाम नबी आजाद, राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष, राष्ट्रीय महासचिव, प्रभारी- हरियाणा

-सचिन पायलट- उपमुख्यमंत्री, राजस्थान और प्रदेश अध्यक्ष

-नाना पटोले- अध्यक्ष, किसान मजदूर कांग्रेस और चेयरमैन, कैंपेन कमेटी (महाराष्ट्र)

-नितिन राउत- अध्यक्ष, अनुसूचित जाति सेल-कांग्रेस और कार्यकारी अध्यक्ष (महाराष्ट्र)

-उमंग सिंगार- कैबिनेट मंत्री, मध्य प्रदेश सरकार और प्रभारी सचिव

-कमलनाथ, मुख्यमंत्री, मध्य प्रदेश और प्रदेश अध्यक्ष

गौरतलब है कि अंतरिम अध्यक्ष बनते ही सोनिया ने अपने तेवर जता दिए हैं. कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में जब नेताओं ने बैठक के बीच खबरें बाहर लीक होने की बातें कहीं तो आनन-फानन में सोनिया ने बैठकों में मोबाइल लाने पर पाबंदी लगाने का पहला फैसला किया था. हाल में देखें तो सोनिया गांधी के सामने शीला दीक्षित के निधन के बाद दिल्ली के नए अध्यक्ष की नियुक्ति चुनौती है. इसके अलावा झारखंड, हरियाणा और महाराष्ट्र में संगठन को मजबूत करने की भी जिम्मेदारी है.

बता दें कि राहुल गांधी ने 2019 के लोकसभा चुनावों की हार की जिम्मेदारी लेते हुए पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद से राहुल गांधी के मान मनौव्वल का दौर चल रहा था और नए अध्यक्ष की खोजबीन भी अंदरखाने जारी रही. इस घमासान के बीच 10 अगस्त को सोनिया गांधी को पार्टी का अंतिम अध्यक्ष चुना गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *