सडक़ किनारे खड़े बच्चों को देख कमल नाथ ने रुकवाया काफिला, फिर पास बुलाकर…

इंदौर. मैग्निफिशिएंट मप्र समिट में भाग लेने के लिए गुरुवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ शहर आए हैं। दोपहर में विधायक संजय शुक्ला के घर से निकलकर वे वरिष्ठ प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष सीपी शेखर के घर जा रहे थे। इसी बीच गणेशगंज में सडक़ किनारे कुछ बच्चे खड़े दिखे। ये बच्चे हाथों में गुलदस्ता लिए खड़े थे। मुख्यमंत्री ने अपनी गाडिय़ों का काफिला रुकवाया और बच्चों को पास बुलाया।

इसके बाद बच्चों ने मुख्यमंत्री को गुलदस्ता भेंट किया। मुख्यमंत्री कमल नाथ ने बच्चों से उनकी पढ़ाई के बारे में भी पूछा। यहां से बच्चों से बमुश्किल एक मिनट मिलने के बाद मुख्यमंत्री का काफिला आगे बढ़ गया।

मां का न होना जीवन की सबसे दुखद घटना विधायक संजय शुक्ला की मां कृष्णादेवी शुक्ला का पिछले दिनों निधन हो गया था। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि मां का ना होना जीवन की सबसे बडी दु:खद घटना होती है। मां, मां होती है, जीवन में उनकी कमी कोई पूरी नहीं कर सकता है। दु:ख की इस घड़ी में, मैं शुक्ला परिवार के साथ हूं। उन्हें मेरी विनम्र श्रद्धांजलि है। इस दौरान उन्होंने विधायक के पिता वरिष्ठ भाजपा नेता विष्णुप्रसाद शुक्ला, पूर्व पार्षद राजेंद्र शुक्ला, गोलू शुक्ला व परिवार के अन्य सदस्यों से मुलाकात कर उन्हें सांत्वना दी।

बीएसएनएल पर ही भरोसा नहीं समिट को लेकर प्रदेश सरकार को बीएसएनएल पर भी भरोसा नहीं है। इस बार समिट में मोबाइल नेटवर्क व कम्युनिकेशन के लिए निजी कंपनी के टॉवर लगाए जा रहे हैं। समिट परिसर के आसपास तीन टॉवर लगाए हैं।

तीन ट्रांसफॉर्मर लगाए बीसीसी में दोहरी लाइन के इंतजाम के साथ ही करीब एक मेगावॉट क्षमता के तीन नए ट्रांसफॉर्मर लगाए गए हैं ताकि बिजली सप्लाय बनी रहे। बिजली कंपनी का अस्थाई कंट्रोल रूम भी बना है। इवेंट कंपनी ने जनरेटर सेट भी लगाया है।

65 कंपनियां सुनाएंगी अपनी कहानी मैग्निफिसंट एमपी-2019 समिट की थीम ग्रीन एमपी रखी गई है। इसकी झलक तीन दिवसीय प्रदर्शनी में दिखाई देगी। डोम में हरे रंग का अधिक इस्तेमाल किया जा रहा है। एंट्री गेट के अलावा ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर के भीतर के अलग-अलग हॉल भी इसी थीम से सजाए गए हैं। प्रदर्शनी के लिए तीन डोम बनाए जा रहे हैं। एक में राज्य सरकार की योजनाओं और नीतियों की ब्रांडिंग होगी, जबकि बाकी दो में करीब ६५ कंपनियां अपने उत्पाद और नई तकनीकों का प्रदर्शन करेंगी।

One Reply to “सडक़ किनारे खड़े बच्चों को देख कमल नाथ ने रुकवाया काफिला, फिर पास बुलाकर…”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *